27 फ़रवरी, 2012

बहुत भारी .... !!!



हार किसे कहते हैं ?
गिरने को ? -
परीक्षा में कम अंक आने को ? -
शेयर गिर जाने को ?
अधकचरे प्रेम की बाजी हारने को ?
.....
आँधी में थरथराते दिए की लौ को
हम हथेलियों की ओट देते हैं
फिर हम उन हथेलियों को क्यूँ नगण्य करते जाते हैं
जो बड़े से बड़े तूफ़ान में हमें ओट देते हैं
जिस हार से हम थरथराने लगते हैं
उसे मामूली बनाने में वे कोई कसर नहीं रखते
.... पर हम !
हार को गले से लगाए रखते हैं
उस जीत को नज़रअंदाज कर देते हैं
जो नगण्य कर दिए जाने पर भी
खिड़की दरवाज़े खोलते रहते हैं
ताकि हमारा दम न घुटे ...
....
ज़िन्दगी की असली जीत इसी में है
अन्यथा
हार है कि तुम अम्बानी नहीं
हार है कि तुम्हारे पास बंगला गाड़ी नहीं
हार है कि तुम रातों रात स्टार नहीं
...........
जीतना चाहते हो तो उन सजदों को देखो
जो तुम्हारे लिए दुआएं माँग रहे हैं
जानो कि हार , उथलपुथल तो हर दिन है
पर इन सब पर
दुआओं में उठे हुए हाथों का पलड़ा भारी है
बहुत भारी .... !!!

41 टिप्‍पणियां:

  1. सच है दी....
    भौतिक सुविधाओं से युक्त होना ही जीत नहीं..
    मन की प्रसन्नता ही सब से बड़ी विजय है...

    सादर..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर लिखा है आपने ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. मन के हारे हार है ... मन के जीते जीत....
    बहुत सुन्दर रचना ... हमारे पास जब तक ताकत है हमारे पास अपनों की दुवा है... हम पुनः जीत अर्जित कर सकते है...जीत के मायने भी बदलना जीत है ... और आपकी कविता बहुत सुन्दर सन्देश देती है.. सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. पर इन सब पर
    दुआओं में उठे हुए हाथों का पलड़ा भारी है
    बहुत भारी .... !!!

    सुंदर भाव ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. हार है कि तुम अम्बानी नहीं
    हार है कि तुम्हारे पास बंगला गाड़ी नहीं
    हार है कि तुम रातों रात स्टार नहीं
    ...........
    जीतना चाहते हो तो उन सजदों को देखो
    जो तुम्हारे लिए दुआएं माँग रहे हैं
    Bahut sundar !

    उत्तर देंहटाएं
  6. ्दुआओं का पलडा तो हमेशा ही भारी रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच कहा आपने, हम लोग हार को अधिक समय तक चिपकाये घूमते रहते हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  8. जीतना चाहते हो तो उन सजदों को देखो
    जो तुम्हारे लिए दुआएं माँग रहे हैं
    जानो कि हार , उथलपुथल तो हर दिन है
    पर इन सब पर
    दुआओं में उठे हुए हाथों का पलड़ा भारी है
    बहुत भारी .... !!!

    काफी अर्थपूर्ण रचना है.....

    उत्तर देंहटाएं
  9. जीतना चाहते हो तो उन सजदों को देखो
    जो तुम्हारे लिए दुआएं माँग रहे हैं
    जानो कि हार , उथलपुथल तो हर दिन है
    पर इन सब पर
    दुआओं में उठे हुए हाथों का पलड़ा भारी है
    बहुत भारी .... !!!
    एक माँ का सफल सलाह या आदेश..... जो माने हम.... !!
    दुआओं का असर से भगवान को भी झुकते ,अपना निर्णय बदलते देखी हूँ.... !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. पर इन सब पर
    दुआओं में उठे हुए हाथों का पलड़ा भारी है
    बहुत भारी .... !!!
    सही बिलकुल सही, इससे बढ़कर कुछ भी नहीं...
    गहरे भाव... सादर

    उत्तर देंहटाएं
  11. उथलपुथल तो हर दिन है
    पर इन सब पर
    दुआओं में उठे हुए हाथों का पलड़ा भारी है
    बहुत भारी .... !!!

    सचमुच....
    सार्थक रचना दी...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या बात है ..सकारात्मक सुन्दर विचार.

    उत्तर देंहटाएं
  13. जीतना चाहते हो तो उन सजदों को देखो
    जो तुम्हारे लिए दुआएं माँग रहे हैं
    जानो कि हार , उथलपुथल तो हर दिन है
    पर इन सब पर
    दुआओं में उठे हुए हाथों का पलड़ा भारी है
    बहुत भारी .... !!! सच में बिलकुल सही कहा जहाँ हम जरा सी बात पर खुद को हरा हुआ मान लेते है.. और भूल जाते उन दुआओं को दिन रात हमारे लिए ही की जाती है..... सच में अभिवयक्ति एक सीख हम सभी के लिए.....

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत बहुत सुन्दर रश्मि जी - बहुत ही सच ....

    उत्तर देंहटाएं
  15. रश्मि जी आपकी रचना पढ़ के मन अभिभूत हो गया धनात्मक उर्जा से भरपूर रचना
    एक बात और में आपके द्वारा संपादित काव्य संग्रह से जुडना चाहती हूँ कृपया मार्ग दर्शन करें

    उत्तर देंहटाएं
  16. रश्मि प्रभाजी बहुत सुन्दर रचना सकारात्मक दृष्टि कौन लिए .

    उत्तर देंहटाएं
  17. जानो कि हार , उथलपुथल तो हर दिन है
    पर इन सब पर
    दुआओं में उठे हुए हाथों का पलड़ा भारी है
    बहुत भारी .... !!!

    ...बिलकुल सच...बहुत सारगर्भित रचना..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  18. दीदी! इस कविता पर खड़े होकर तालियाँ बजा रहा हूँ मैं!! इस बार कोई प्रतिक्रया नहीं!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. दुआओं में उठे हुए हाथों का पलड़ा भारी है
    बहुत भारी .
    एकदम सही बात....

    उत्तर देंहटाएं
  20. हार से हारकर बैठ जाना सही नहीं...घने अँधेरे में रोशनी की एक किरण ही काफी है...एक दुआ की तरह|

    उत्तर देंहटाएं
  21. दुआओं में उठे हुए हाथों का पलड़ा भारी है
    बहुत भारी ....
    !!!बहुत बढ़िया सराहनीय प्रस्तुति,सुंदर रचना और पुस्तक विमोचन लिए बधाई .

    NEW POST काव्यान्जलि ...: चिंगारी...

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सुन्दर सारगर्भित रचना,

    उत्तर देंहटाएं
  23. जीतना चाहते हो तो उन सजदों को देखो
    जो तुम्हारे लिए दुआएं माँग रहे हैं...
    दुआओं में उठे हुए हाथों का पलड़ा भारी है
    बहुत भारी .... !!!

    बहुत ही प्रेरणादायी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  24. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  25. जो नगण्य कर दिए जाने पर भी
    खिड़की दरवाज़े खोलते रहते हैं
    ताकि हमारा दम न घुटे ...

    बहुत ही गहन, प्रेरणा देती रचना!
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  26. जो नगण्य कर दिए जाने पर भी
    खिड़की दरवाज़े खोलते रहते हैं


    दुआओं में उठे हुए हाथों का पलड़ा भारी है
    बहुत भारी .... !!!


    सच है आशावादियों के लिये सुख के रस्ते खुले ही रहते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  27. उपलब्धियों के मायने इतने बढे हुए क्यूँ हैं ...? गहरी बात कहती है आपकी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  28. जिसके लिए इतनी दुआएं , सजदे हैं ...हार उसके लिए नहीं है !
    दुआएं सब पर भारी है!

    उत्तर देंहटाएं
  29. ... पर हम !
    हार को गले से लगाए रखते हैं
    उस जीत को नज़रअंदाज कर देते हैं
    जो नगण्य कर दिए जाने पर भी
    खिड़की दरवाज़े खोलते रहते हैं
    ताकि हमारा दम न घुटे ...

    सच है, हमें उन अवसरों को समझना चाहिए जो जिंदगी की राह में लार्खादते हुए दिख जाते हैं. विजय जो प्रेम के स्वरुप में लोगों से मिलती है वही असली विजयश्री है.

    बहुत सुन्दर एवं शिक्षा प्रदान करने वाली रचना

    आभार
    फणि राज

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत भारी पर रहा है सोच पर .. असर भी भारी है..बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  31. बेहद सार्थक व सटीक लेखन... आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  32. दुआओं में उठे हुए हाथों का पलड़ा भारी है
    बहुत भारी .... !!!
    yhi jeet hai .....

    उत्तर देंहटाएं
  33. दुआओं में उठे हाथ ..बंगले -गाडी से ज्यादा भारी होते हैं....निःसंदेह .

    उत्तर देंहटाएं
  34. हमारे हाथ ही तो हमारे औज़ार हैं, जिन्हें हम अपने अपने तरीके से इस्तेमाल करते हैं...यह गौण कैसे हो सकते हैं....इनमें तो इश्वर का वास है !....प्रेरणादायक रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  35. दुआओं में उठे हुए हाथों का पलड़ा भारी है
    बहुत भारी .... !!!
    बिल्‍कुल सच ... और हमेशा रहेगा ...

    उत्तर देंहटाएं

पुनरावृति

दिए जा रहे हैं बच्चों को सीख  ! "ये देखो वो देखो ये सीखो वो सीखो देखो दुनिया कहाँ से कहाँ जा रही है ! गांव घर में खेती थी ...