About Us


मेरे एहसास इस मंदिर मे अंकित हैं...जीवन के हर सत्य को मैंने इसमे स्थापित करने की कोशिश की है। जब भी आपके एहसास दम तोड़ने लगे तो मेरे इस मंदिर मे आपके एहसासों को जीवन मिले, यही मेरा अथक प्रयास है...मेरी कामयाबी आपकी आलोचना समालोचना मे ही निहित है...आपके हर सुझाव, मेरा मार्ग दर्शन करेंगे...इसलिए इस मंदिर मे आकर जो भी कहना आप उचित समझें, कहें...ताकि मेरे शब्दों को नए आयाम, नए अर्थ मिल सकें ...

07 मई, 2017

कुछ ऐसा लिखूँ




मैं चाहती हूँ
कि मैं कुछ ऐसा लिखूँ
जिसमें से ध्वनि तरंगित हो
एक घर दिखाई दे
दिखे चूल्हे की आग
तवे पर रोटी
जो भूख मिटा दे
बुनकरों की विद्युत गति
जिसमें कृष्ण की हथेलियों का आभास हो
और हर जगह द्रौपदी की लाज रह जाए ...
लिखना चाहती हूँ कुछ ऐसा
जिसमें कर्ण जीवित हो उठे
उसके कवच कुंडल उद्घोष करें
उसके क्षत्रिय होने का !
परशुराम का क्रोध शांत हो जाए
और वे अपने शिष्य की निष्ठा को
एक नया आयाम दे जाएँ !
द्रोणाचार्य
एकलव्य का जयघोष करें
अर्जुन उसके आगे नतमस्तक हो
महाभारत महानयुग हो जाये
पितामह हस्तिनापुर का भाग्य लिखें
धृतराष्ट्र की आंखें बन जायें ..
लिखना चाहती हूँ
वह रामायण
जिसमें राम लक्ष्मण भरत शत्रुघ्न
सबकी पैजनियों की आवाज़ सुनाई दे
खीर का बँटवारा समान रूप से हो
मन्थरा का जन्म ही न हो
कैकेई का मातृत्व स्तंभ बने
उर्मिला अपनी उम्र को संगीतमय बना ले ..
लिखना चाहती हूँ
कलयुग का परिष्कृत रूप
जिसमें गुरुकुल की महिमा हो
अपशब्द न हों
हर घर में अमृत हो ...
मैं कलम में तब्दील होना चाहती हूँ
अपने भीतर श्री गणेश का आह्वान करती हूँ

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 09 मई 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (09-05-2017) को
    संघर्ष सपनों का ... या जिंदगी का; चर्चामंच 2629
    पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय,सुन्दर व आशान्वित करती रचना !किन्तु ,इतिहास में परिवर्तन संभव नहीं ,वर्तमान में संभव है ,आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  4. ईश्वर आपकी इच्छा को पूरा करे क्योंकि यह जन मानस की इच्छा है. बहुत खूबसूरत सोच और सुंदर प्रस्तुति.बधाई हो

    उत्तर देंहटाएं
  5. काश....आप लिखे और सच हो जाये...आह सच में एक राम राज आये..

    उत्तर देंहटाएं