15 जुलाई, 2017

खुली किताब और




मैं एक खुली किताब हूँ
लेकिन
वक़्त की चाल से प्रभावित होकर
कुछ पन्ने मैंने इसके फाड़ दिए हैं
और कुछ चिपका दिए हैं
कुछ खुली हुई बातों को
मैने रहस्य का जामा पहना दिया है
ताकि होती रहें कुछ अनुमानित बौद्धिक बातें
काटा जाए उसे तर्क कुतर्क से
क्या होगा
क्या होना चाहिए था
क्या हो सकता था ... एक शगल चलता रहे !

बिल्कुल खुली किताब में भी
अनुमान की अटकलें थीं
और सत्य के आगे - अनुमान
सहन नहीं होता न
तो मैंने
ऐसा ही करना मुनासिब समझा !
क्योंकि,
कचरे की ढेर सा
सच अपनी जगह रहता है
जैसे कोई भूखा
कचरे से अन्न का दाना ढूँढ लेता है
वैसे ही सच समझनेवाले
सच को चुपचाप पढ़ लेते हैं ...
.... किताब खुली हो या पन्ने फ़टे हों
वे पढ़ ही लेते हैं !!!

16 टिप्‍पणियां:

  1. खुली किताबों के भी कुछ फटे पन्ने होते हैं तो कुछ नये भी...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वही तो ... यहाँ मुझे फाड़ना पड़ा
      चिपकाना पड़ा
      कुछ रहस्य बना हुआ है

      हटाएं
  2. किताब खुली हो या पन्ने फ़टे हों
    वे पढ़ ही लेते हैं !!!...बहुत सुन्दर कविता , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. सत्य के आगे - अनुमान
    सहन नहीं होता .... बिल्कुल सही 👌👌
    वैसे ही सच समझनेवाले
    सच को चुपचाप पढ़ लेते हैं ...
    .... किताब खुली हो या पन्ने फ़टे हों
    वे पढ़ ही लेते हैं !!! ख़ामोशी संवाद करती है उन पलों में !!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सत्य के आगे - अनुमान
    सहन नहीं होता .... बिल्कुल सही 👌👌
    वैसे ही सच समझनेवाले
    सच को चुपचाप पढ़ लेते हैं ...
    .... किताब खुली हो या पन्ने फ़टे हों
    वे पढ़ ही लेते हैं !!! ख़ामोशी संवाद करती है उन पलों में !!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर..जो पढ़ सकते हैं वे पढ़ ही लेंगे..

    उत्तर देंहटाएं
  6. ऐसी किताब जो आत्मा में अपने आप खुलती है । अति सुंदर कहा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. जैसे कोई भूखा
    कचरे से अन्न का दाना ढूँढ लेता है
    वैसे ही सच समझनेवाले
    सच को चुपचाप पढ़ लेते हैं ...
    सच कहा आपने जब कोई भूखा हो तो वह उसे मिटाने का साधन ढूंढ ही लेता है
    बहुत सुन्दर ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. किताब है तो सही और है तो यहीं
    पन्ने रह गये हैं कहीं किताब कहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (17-07-2017) को "खुली किताब" (चर्चा अंक-2669) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच समझनेवाले
    सच को चुपचाप पढ़ लेते हैं ...
    .... किताब खुली हो या पन्ने फ़टे हों
    वे पढ़ ही लेते हैं !!!
    बिलकुल सही है...

    उत्तर देंहटाएं
  11. खुली किताब होते हुए भी कुछ आवरण भी ज़रूरी है सच सच ही रहता है भले ही लोग कितनी ही अफवाह फैला लें लेकिन निंदा रस के सामने मौन ही बेहतर है और कुछ पन्ने चिपका लिए जाएँ यानि कुछ लीपापोती कर ही ली जाए तो उसमें भी बुराई नहीं .

    भावों को कम शब्दों में प्रभावशाली रूप में प्रस्तुत किया है ...

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...